10 धन के चमत्कारी मंत्र : 100% DhanLaxmi Mantra in Hindi

dhan prapti mantra

धनलक्मी मंत्र आइये जाने धन प्राप्ति के मंत्र के बारे में, हम यहां आपको मां लक्ष्मी के लिए कुबेर मंत्र और अन्य ज्योतिष से जुड़े हुए धन पाने के मंत्र बताएंगे.

अगर आप इन मंत्रो का नियम से प जप करेंगे तो निश्चित ही आपको ढेर सारे धन की प्राप्ति होगी, नए-नए धन प्राप्ति के योग बनेंगे, चारों दिशाओं से धन आने की प्राप्ति के योग बनेंगें आप अगर व्यापारी है या कोई व्यवसाय करते है तो उसमे भी यह मंत्र आपको चमत्कारिक लाभ देंगे.

आप अपनी पूरी श्रद्धा से पवित्रता से मन लगाकर मंत्र या किसी उपाय का प्रयोग करेंगे तो इससे आपको लाभ जरूर मिलेगा. जिस तरह स्कूल में से कुछ ही बच्चे परीक्षा में टॉप करते है उसी तरह यह बात यहाँ भी लागूं होती है.

इसके लिए आपको श्रद्धा भक्ति और सही तरीके से प्रयोग करना होता है तभी जाकर आप पर देवी की असीम कृपा होती है. तो आइये आगे जानते है kuber dhan prapti ke dhanlaxmi mantra in Hindi भाषा में.

dhan prapti mantra

#1.

धन कुबेर का मंत्र : ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय, धन धन्याधिपतये धन धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा। इस मंत्र को एक सौ आठ बार रोजाना जपने से तीन महीने में ही किसी भी माध्यम से धन की प्राप्ति होने लगती है.

यह कुबेर का चमत्कारी मंत्र है, सुबह स्नान करने के बाद पवित्र स्थान या पूजा घर में बैठ कर इस मंत्र का जप जरूर करे.

इसके अलावा आप अगर चाहे तो “धनलक्ष्मी कौड़ी” को जप करते समय अपने सामने रख कर इस मंत्र का जप करे और फिर तीन महीने बाद इस धनलक्ष्मी कौड़ी को आप घर में जहाँ पैसे रखते है वहां पर रख दें.

तो इसके प्रभाव से आपके पैसो की तिजोरी कभी खाली नहीं होगी, किसी न किसी रूप में पैसे आते रहेंगे.

Dhan Prapti Mantra in Hindi

#2.

इसके अलावा माँ भगवती लक्ष्मी जी के सबसे सरल मंत्र बताते है, आप इन मंत्रो में से किसी भी एक मंत्र को चुन ले और फिर रोजाना पांच, सात या ग्यारह माला अपनी मर्जी के अनुसार उस मंत्र से माला जपे. ऐसा रोजाना करने से माँ लक्ष्मी की प्राप्ति होगी, विशेष कृपा प्राप्त मिलेगी.

आप चाहे तो सिर्फ यही उपाय करे और बाकी के ना करे तो भी आपको बहुत लाभ होगा. यह मंत्र है,

  • Mantra : 1 ॐ श्रीं नमः।
  • Mantra : 2 ॐ श्रियै नमः।
  • Mantra : 3  ॐ कमलायै नमः।
  • Mantra : 4  ॐ ह्रीं पदमे स्वाहा।
  • Mantra : 5  ॐ ऐं श्रीं ह्रीं क्लीं।
  • Mantra : 6  ॐ ह्रीं श्रीं नमः।

बताये गए इन मंत्रो में से किसी भी एक मंत्र को चुन ले, ऐसा मंत्र चुने जिसका उच्चारण आप शुद्ध रूप से कर सके और फिर उसी मंत्र से रोजाना 5,7 या 11 माला जपे. माला आप कमलगट्टे की ले सकते है.

#3.

अगर आपके जीवन में धन का आभाव है, तो धन का आभाव दूर करने के मंत्र में आप यह करे. धन घटता बढ़ता रहता है, पैसे टिकते नहीं है, कमाए से ज्यादा खर्चे हो जाते है तो ऐसी अवस्था में आपको इस laxmi prapti mantra का प्रयोग भी जरूर करना चाहिए.

मंत्र है : ॐ ह्रीं नमः इस मंत्र का जप के साथ आप रोजाना लक्ष्मी जी के चित्र या तस्वीर की पूजा करे और अपनी एक माला या पांच माला रोजाना नियम से करे. माला का एक नियम बनाये और फिर रोजाना उतनी ही माला जपे.

Dhan Laxmi Mantra in Hindi

#4.

इस मंत्र के प्रयोग से दरिद्रता, धन का आभाव होना आदि संकटों से जल्द छुटकारा मिलता है. यह अद्वितीय धन प्राप्ति का मंत्र है. बेकारी, बेरोजगारी, धन का आभाव, हीनता, निराधार होना और अगर अपनी जीवनचर्या के लिए पर्याप्त धन नहीं कमा पा रहे हो ऐसे व्यक्ति को दरिद्रता का श्राप विक्षिप्त कर देता है वह या तो अपराधी जीवन की और बढ़ता है या आत्महत्या कर लेता है.

ऐसा व्यक्ति अगर रोजाना देवी लक्ष्मी जी की सामान्य पूजा करके इस मंत्र “ॐ नमो भगवती पदम् पदमावती ॐ ह्रीं श्रीं पूर्वाय, दक्षिणाय, पश्चिमाय, उत्तराय, अणुपूरय सर्व जन वश्यं कुरु स्वाहा। ”

की एक माला रोजाना जप कर ले, तो कुछ ही दिनों में वह व्यक्ति किसी भी कार्य व्यवसाय में लग जाता है, अगर कोई पहले से कार्य कर रहा है तो उसमे उसको सफलता मिलती है, यह धन प्राप्ति वशीकरण मंत्र है. इस तरह इस मंत्र के जप से उसकी निर्धनता ख़त्म होकर अच्छी अवस्था में आ जाती है.

#5.

एक ओर अद्भुत चमत्कारी सरल मंत्र बताते है. सबसे पहले आप अपने घर के पूजा स्थान के पास ही थोड़ी सी जगह को गौ मूत्र से लिप कर पवित्र कर ले. इसके बाद साधक किसी भी दिन.

किसी भी मौसम में स्नान कर के शाम के समय अच्छा अंधेरा हो जाने पर अपने घर के पूजा स्थान पर आसान लगाकर बैठ जाए और लिपे हुए स्थान पर चावलों की एक ढेरी बनाकर उस पर एक मूंगा रत्न रख दें, मूंगा रत्न आप पहले से ही मंगवा कर रख ले.

इस प्रयोग में किसी मूर्ति या चित्र की जरूरत नहीं होती सिर्फ मंत्र बोलते समय साधक की नज़रे मूंगे पर टिकी होनी चाहिए. यह मंत्र है : ॐ ह्रीं श्रीं मानस सिद्धिकरि ह्रीं नमः इस मंत्र से आपको पांच दिनों के अंदर सवा लाख जप करना है यानी एक लाख पच्चीस हजार बार जप पुरे करने है.

जब पांच दिन में मंत्र पूरा हो जाए तो छठवे दिन उस मूंगे को सोने की अंगूठी में जुड़वाकर अपने हाथ की किसी भी उंगली में धारण कर ले.

इस अंगूठी को आप किसी भी स्थिति में नहीं निकाले, शौच, पत्नी के साथ शयन करना आदि किसी भी स्थिति में इसे उंगली से नहीं निकाले यह अशुद्ध नहीं होती.

इस प्रयोग को करने पर अंगूठी पहन लेने से धन से जुडी सभी तरह की परेशानियां ख़त्म हो जाती है और धन से जुड़े सभी कामो में सफलता मिलती है. यह बहुत ही प्रभावी मंत्र प्रयोग है.

अगर आपको धन से जुड़े कामो में किसी भी तरह की बाधा आती रहती है तो आप इस dhan prapti ke mantra >  ॐ ह्रीं ऐं क्लीं श्रीं: का जप सवा लाख बार करे, इस मंत्र का सवा लाख जप आपको 5,7,11 दिनों के भीतर पूरा करना है.

किसी भी बुधवार के दिन से यह प्रयोग शुरू करे, सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर साधक लक्ष्मी जी के चित्र या मूर्ति को पूजा घर में स्थापित करे और उसकी सामान्य पूजन करे और फिर मंत्र का जप शुरू करे फिर 12वे दिन किसी ब्राह्मण-पुत्र या कुंवारी कन्या को भोजन कराकर उसे दक्षिणा और वस्त्रादि भेंट स्वरुप प्रदान करे इसके अलावा गणपति का विग्रह या मूर्ति अपने पूजा स्थान में स्थापित कर दें.

इस प्रयोग को करने से आर्थिक तंगी समाप्त होती है और धन से जुड़े कामो में किसी भी तरह की बाधा नहीं आती. यह छोटा सा प्रयोग बहुत सरल है और प्रभावी भी है आप इसका प्रयोग जरूर करे.

Money Vashikaran Dhanlaxmi Mantra Bataye

#6.

अगर आपको आने वाले समय में किसी काम के लिए धन की आवश्यकता पड़ने वाली है तो आप इस प्रयोग को जरूर करे.

रोजाना सुबह अच्छी तरह दांत साफ़ कर के स्नान आदि से निवृत्त होकर इस मंत्र ॐ ह्रीं श्रीं क्रीं क्लीं लक्ष्मी माम गृहे धन पूरय चिन्तां तूर्य स्वाहा।

इस मंत्र का रोजाना 108 बार जप करे. रोजाना नियम से पवित्र होकर इस मंत्र का जप करने से एक-डेढ़ महीने के अंदर कहीं न कहीं से व्यापार या व्यवसाय किसी भी माध्यम से ढेर सारे धन की प्राप्ति का योग बनता है.

अगर आप व्यापारी है तो आपको इस मंत्र ” श्री शुक्ले महाशुक्ले कमलदल निवासे महालक्ष्म्यै नमः लक्ष्मी माई सत्य की सवाई आयो माई करो भलाई, न करो तो समुद्र की दुहाई ऋद्धि-सिद्धि खावो मिट तो नौ नाथ चौरासी की दुहाई “।

अगर व्यक्ति अपने रोजगार का काम शुरू करने से पहले अगर इस मंत्र का 108 बार उच्चारण करके दुकान खोले या संस्थान खोले या उसका कोई सा भी रोजगार का काम करे तो इससे उसकी बिक्री बढ़ती है.

दुकान व्यापार अच्छा चलता है. इस मंत्र को सिद्ध करने की कोई जरुरत नहीं होती बस रोजाना दुकान खोलने से पहले इस मंत्र का एक माला जप करना जरुरी है. यह बहुत प्रभावी है ग्राहकों की बिक्री बढ़ा देता है. ऐसा ही एक और मंत्र बताते है.

#7.

अपनी दुकान के पूजा स्थान या घर के पूजा स्थान में अगर एकाक्षी नारियल स्थापित कर रोजाना इस मंत्र का ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्री महालक्ष्म्यै लक्ष्म्यै नमः का सिर्फ ग्यारह बार जप किया जाए तो दिनों दिन धन में वृद्धि होती है, ग्राहकों का तांता लग जाता है.

कुबेर के खजाने के सामान तिजोरी भरने लगती है. इसके लिए सबसे पहले एकाक्षी नारियल को प्राप्त कर तत्काल इसे बड़े कपडे में तीन गांठ लगाकर व्यक्ति जहां इसे स्थापित करना चाहे वहां पर स्थापित कर दें.

बस ध्यान रहे इस नारियल को जितने कम व्यक्ति देखेंगे उतना ही अधिक यह नारियल फल देगा.

एकाक्षी नारियल एक आँख वाला होता है, यानी जैसे की हर नारियल की खाल निकालने पर उसमे दो आंखें दिखाई देती है, गोल आकार में.

लेकिन एकाक्षी नारियल में सिर्फ एक गोल आकार की आँख होती है यह बहुत दुर्लभ होता है लेकिन आप धार्मिक स्थान या दुकान से इसे प्राप्त कर सकते है.

इस नारियल की तीनो गांठे एक साल में तीन बार ही खोल सकते है. दीपावली, महाशिवरात्रि, होली, रक्षाबंधन या किसी सोमवार या गुरुवार में शुभ मुहरत होने पर इसका कपडा बदला जा सकता है. पुराने कपडे को किसी नदी में प्रवाहित कर दें. इस प्रयोग से दिव्य लाभ होता है, व्यापार में दिनों दिन धन की वर्षा होने लगती है.

लक्ष्मी प्राप्ति के मंत्र सरल और चमत्कारी

#8.

धनलक्समी प्राप्ति के लिए अब हम आपको बताते है हनुमान जी के ऐसे मंत्र के बारे में जो की धन प्राप्ति, दुःख, दरिद्रता, शारीरिक कष्ट और शत्रुभय आदि इन सभी से छुटकारा दिलवाता है.

यह धन की प्राप्ति भी खुभ करवाता है. यह मंत्र है ” ॐ ऐं श्रीं नमो भगवते हनुमते मम कार्येषु ज्वल-ज्वल प्रज्वल प्रज्वल असाध्यं साधय-साधक माम रक्ष रक्ष सर्वदुष्टेभ्यो हूं फट स्वाहा “।

इस धन प्राप्ति के मंत्र के इष्टदेवता हनुमान जी है, इसलिए इसका जप मंगलवार के दिन से शुरू करके लगातार सात मंगलवार तक यानी 49 दिनों तक रोजाना एक निश्चित संख्या में जप करना है.

जप की पूर्णता हो जाने पर बंदरों को गुड़ और चने खिलाये. इसके प्रभाव से साधक के सभी क्लेश, दुःख आदि दूर हो जाते है और धन की प्राप्ति भी होती है.

#9.

आप जब भी बैंक में रुपये जमा करने जाए तो प्रयास करें की पश्चिम मुखी होकर ही कार्य करे और मानसिक रूप से माँ लक्ष्मी के किसी भी मंत्र का जप करते रहे.

अगर माँ लक्ष्मी का कोई मंत्र याद न हो तो आप इस मंत्र ॐ श्रीं श्रीं श्रीं का जप कर सकते है. इससे आपका धन सदैव बढ़ता रहेगा और बैंक बैलेंस भरपूर रहेगा, धन का आभाव कभी नहीं आएगा.

#10.

धन लक्ष्मी कुबेर मंत्र ” ॐ कुबेराय नमः ” कृष्णपक्ष की अष्टमी की रात को 12 बजे घर की छत पर खड़े होकर आकाश को देखते हुए इस मंत्र का तब तक जप करते रहें जब तक आप किसी पक्षी की आवाज न सुन लें.

आवाज़ सुनते ही मंत्र जप बंद कर दें. पश्चात् अपने शयन कक्ष में जाकर 108 बार मंत्र का उच्चारण करके सो जाए.

सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर लक्ष्मी नारायण के मंदिर में जाकर मूर्तियों को साष्टांग प्रणाम करे और फल, फूल पैसे चढ़ाये.

यह क्रिया लगातार सात अष्टमी करनी है, कुबेर भगवान् आप पर मेहरबान हो जायेंगे. यह चमत्कारिक फल देने वाला है. यह बहुत दिव्य प्रयोग है. प्रयोग करके देखें खुद ही जान जायेंगे.

Dhan Prapti Kuber Mantra Video in Hindi

इस तरह बताये गए लक्ष्मी जी धन प्राप्ति के मंत्र, dhanlaxmi mantra in Hindi के प्रयोग से आप लक्ष्मी जी की कृपा पा सकते है, इसमें धन प्राप्ति कुबेर मंत्र भी दिए है आप इन में से किसी भी प्रयोग को बारी बारी से करके देखे आप खुद इनका फल एहसास करने लगेंगे.

यह बहुत प्रभावकारी लक्समी प्राप्ति मंत्र है, बस शर्त है नियम अनुसार, पवित्र अवस्था में रोजाना के नियम से उसी समय मंत्र का जप करे तो आपको कृपा अवश्य प्राप्त होगी.